एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये – पात्रता, फायदे

SBI Accidental Insurance Policy 1000 Rs in Hindi – एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये हिंदी में

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी दो कंपनियों अर्थात् स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और इंश्योरेंस ऑस्ट्रेलिया ग्रुप (IAG) के बीच एक संयुक्त उद्यम है। स्टेट बैंक ऑफ इंडिया कंपनी का 74% हिस्सा है जबकि इंश्योरेंस ऑस्ट्रेलिया ग्रुप शेष 26% का मालिक है।

2013-14 का वर्ष कंपनी के संचालन का चौथा वर्ष था जहां कंपनी ने 1188 करोड़ का सकल प्रीमियम कलेक्‍शन में 54% की वृद्धि दर्ज की। उसी वर्ष कंपनी ने भारतीय स्टेट बैंक के सहयोग से भारतीय स्टेट बैंक के 1.5 करोड़ से अधिक बचत खाताधारकों को ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट इन्शुरन्स कवर के साथ कवर किया।

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी व्यक्तियों के लिए मोटर बीमा, स्वास्थ्य बीमा, यात्रा बीमा, व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा और गृह बीमा सहित बीमा प्लान्स की विभिन्न श्रेणियों की पेशकश करती है। अन्य विशिष्ट बीमा प्लान्स में एविएशन इंश्योरेंस, फायर इंश्योरेंस, मरीन इंश्योरेंस, पैकेज इंश्योरेंस, कंस्ट्रक्शन और इंजीनियरिंग बीमा इंश्योरेंस, लायबिलिटी इंश्योरेंस, ग्रुप हेल्थ इन्शुरन्स, ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंट इन्शुरन्स और व्यवसायों के लिए विविध बीमा प्लान्‍स शामिल हैं।

विषय सूची

SBI Accidental Insurance Policy 1000 Rs in Hindi – एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये हिंदी में

SBI Accidental Insurance Policy 1000 Rs in Hindi - एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस दो प्रकार की पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा प्लान प्रदान करता है। एक इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी है जो व्यक्तियों को कवर करती है और दूसरी ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी है जो व्यक्तियों के एक समूह को कवर करती है।

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस प्लान दुर्घटना में होने वाली मौतों और अपंगता को कवर करता है। यदि बीमित व्यक्ति की एक्सीडेंटल डेथ हो जाती है या दुर्घटना में विकलांग हो जाता है, तो पॉलिसी एक निश्चित निर्दिष्ट लाभ का भुगतान करेगी। यह एक निश्चित लाभ प्लान है जो आकस्मिकता की स्थिति में क्‍लेम की एक निश्चित राशि का भुगतान करती है और क्‍लेम की राशि आपको होने वाली वास्तविक वित्तीय हानि पर निर्भर नहीं करती है।

पर्सनल एक्सीडेंटल इंश्योरेंस कवर क्यों?

आधुनिक युग में, जो इतनी तेज-तर्रार और सुख-सुविधाओं से भरपूर है, जिसे पहले के समय में एक विलासिता माना जाता था, आकस्मिकताएँ बहुत पीछे नहीं हैं। हर सुविधा के साथ एक आकस्मिकता का सामना करने की प्रासंगिक अनिश्चितता आती है जिसमें वित्तीय नुकसान शामिल होता है।

विकासशील अर्थव्यवस्था के कारण कारों और टू-व्हीलर्स वाहनों का उपयोग बढ़ गया है, जहां अधिक से अधिक लोग वाहन का खर्च वहन कर सकते हैं। इस विकास के साथ, वाहन मालिकों और सड़क पर चलने वाले पैदल चलने वालों दोनों के लिए दुर्घटनाओं की संभावना बढ़ जाती है।

एक दुर्घटना के परिणामस्वरूप मृत्यु या विकलांगता आ सकती है, जो या तो अस्थायी या स्थायी प्रकृति की हो सकती है। ये दोनों परिदृश्य किसी व्यक्ति की वित्तीय स्थिति को प्रभावित करेंगे और इस प्रकार, व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा प्लान के साथ खुद को बीमा कराना नुकसान से बचने का सबसे प्रभावी तरीका है।

पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा क्यों चुनें?

एक पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी निम्नलिखित कारणों से उपयोगी सिद्ध होती है –

  • आकस्मिक मृत्यु के मामले में पॉलिसी एकमुश्त लाभ का भुगतान करती है। यह लाभ परिवार के कमाऊ सदस्य की मृत्यु होने पर होने वाले वित्तीय नुकसान से निपटने में परिवार की मदद करता है
  • स्थायी विकलांगता के मामले में, चाहे पूर्ण हो या आंशिक, आपको एकमुश्त लाभ मिलता है। यह लाभ आपको विकलांगता के बाद अपनी जीवन शैली को समायोजित करने की अनुमति देता है। इसके अलावा, विकलांगता के कारण होने वाली आय की हानि को भी आपको प्राप्त होने वाले लाभ के माध्यम से निपटाया जा सकता है
  • दुर्घटनाएं बहुत आम हो गई हैं और यह प्लान आपको यह जानकर मन की शांति देता है कि किसी भी आकस्मिक आकस्मिकता से आपको कोई वित्तीय नुकसान नहीं होगा
  • पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा प्लान्स का प्रीमियम बहुत कम होता है। इससे पॉलिसीयां आसानी से सस्ती हो जाती हैं और कवरेज वित्तीय सुरक्षा भी प्रदान करता है।

इन्हीं कारणों को देखते हुए पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस पॉलिसी काफी उपयोगी साबित होती है।

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी (SBI Accidental Insurance Policy in Hindi)

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी द्वारा दी जाने वाली व्यक्तिगत दुर्घटना बीमा प्लान्‍स:

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी दो प्रकार की पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान्‍स प्रदान करती है जो ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान और इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान हैं। आइए उनमें से प्रत्येक को बेहतर ढंग से समझने के लिए प्लान्स पर विस्तार से नज़र डालें।

1. एसबीआई ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान (SBI Group Personal Accident Insurance Plan)

यह एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस प्लान एक व्यापक पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी है जो न केवल आकस्मिक मृत्यु और अपंगता को कवर करती है बल्कि इसके परिणामस्वरूप होने वाली आय की हानि को भी कवर करती है।

यह पॉलिसी भारतीय स्टेट बैंक और उससे जुड़े बैंकों के व्यक्तियों के एक समूह को प्रदान की जाती है। व्यक्तियों का समूह बैंक के सेविंग अकाउंट, फिक्स्ड डिपाजिट अकाउंट, लोन अकाउंट, करंट अकाउंट आदि के खाताधारक हो सकते हैं। सभी सूचीबद्ध सदस्यों को कवर करने वाली इकाई के नाम पर एक मास्टर पॉलिसी जारी की जाती है।

ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंटल कवर के तहत इंश्योरेंस प्लान की विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  • ग्रुप बीमा प्लान दुर्घटना के परिणामस्वरूप जीवन के नुकसान को कवर करती है
  • ग्राहक अपनी आवश्यकता के अनुसार सम एश्योर्ड का चयन कर सकता है
  • पॉलिसी के तहत चार कवरेज ऑप्‍शन हैं और आप अपनी आवश्यकताओं के अनुरूप एक कवरेज चुन सकते हैं
  • प्लान को व्यक्तिगत आधार पर और फैमिली फ्लोटर आधार पर भी लिया जा सकता है
  • पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी के लिए कवरेज में बच्चों की शिक्षा भत्ता लाभ और अनुकूलन भत्ता के लिए लाभ भी शामिल है। ये दोनों लाभ बिना किसी अतिरिक्त प्रीमियम के पॉलिसी के अंतर्गत अंतर्निहित हैं
  • पॉलिसी के साथ ऐड-ऑन भी उपलब्ध हैं, जिन्हें आप कवरेज के व्यापक दायरे के लिए अतिरिक्त प्रीमियम पर प्राप्त कर सकते हैं
  • यदि आप किसी पॉलिसी वर्ष में क्‍लेम नहीं करते हैं, तो आपको नो क्लेम बोनस मिलता है। नो क्लेम बोनस के माध्यम से सम एश्योर्ड में 5% की वृद्धि की जाती है और आप प्रत्येक क्‍लेम-फ्री वर्ष में 50% की अधिकतम वृद्धि तक वृद्धि का आनंद ले सकते हैं।
  • आप किसी भी प्रकार के मेडिकल चेक-अप के बिना पॉलिसी खरीद सकते हैं

एसबीआई जनरल इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस पॉलिसी के तहत कवरेज

निम्नलिखित आकस्मिकताओं के लिए पॉलिसी के तहत कवरेज की अनुमति है –

  • Table A – आकस्मिक मृत्यु जिसमें चयनित सम एश्योर्ड का 100% भुगतान किया जाता है
  • Table B – एक्सीडेंटल डेथ और पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी। किसी भी मामले में सम एश्योर्ड का 100% भुगतान किया जाता है
  • Table C – एक्सीडेंटल डेथ, पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी और पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी। आकस्मिक मृत्यु और पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी के मामले में सम एश्योर्ड का 100% भुगतान किया जाता है। पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी के मामले में, हालांकि, सम एश्योर्ड का एक हिस्सा विकलांगता की गंभीरता के आधार पर भुगतान किया जाता है
  • Table D – एक्सीडेंटल डेथ, पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी, पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी और टेम्पररी टोटल डिसेबिलिटी। आकस्मिक मृत्यु और पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी के मामले में सम एश्योर्ड का 100% भुगतान किया जाता है। आंशिक विकलांगता के मामले में, सम एश्योर्ड का प्रतिशत का भुगतान किया जाता है। टेम्पररी टोटल डिसेबिलिटी के मामले में, सम एश्योर्ड का 1% हर हफ्ते भुगतान किया जाता है।

इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा प्लान के तहत ऐड-ऑन

इस एसबीआई दुर्घटना बीमा प्लान के तहत कवरेज आपके द्वारा चुनी गई कवरेज तालिका पर निर्भर करेगा। इसके अलावा, चुनी गई तालिका द्वारा प्रदान की गई कवरेज के अतिरिक्त, आप पॉलिसी ऐड-ऑन के माध्यम से अतिरिक्त कवरेज लाभ भी चुन सकते हैं। एसबीआई दुर्घटना बीमा प्लान के तहत उपलब्ध ऐड-ऑन इस प्रकार हैं –

अस्पताल भर्ती भत्ता (Hospital Confinement Allowance): इस ऐड-ऑन के तहत, यदि आप किसी दुर्घटना के कारण अस्पताल में भर्ती हैं और आपका अस्पताल में भर्ती होने की अवधि 24 घंटे से अधिक है, तो आपको 1000 रुपये से 3000 रुपये के दैनिक भत्ते का भुगतान किया जाएगा।

एयर एंबुलेंस सहित एम्बुलेंस चार्जेज: यह ऐड-ऑन रोड एम्बुलेंस या एयर एम्बुलेंस की लागत को कवर करता है, जिसकी आवश्यकता किसी दुर्घटना के बाद आपको अस्पताल ले जाने या अस्पताल से मृत शरीर को बीमाधारक के निवास तक ले जाने के लिए हो सकती है। सम एश्योर्ड के 10% तक कवरेज की अनुमति है, जो अधिकतम 1 लाख रुपये तक हो सकता है

पात्रता

  • यह पॉलिसी किसी भी स्थायी भारतीय निवासी द्वारा खरीदी जा सकती है, जिसका या तो सेविंग बैंक अकाउंट है या भारतीय स्टेट बैंक या इसके किसी भी एसोसिएटेड बैंक में करंट अकाउंट है।
  • व्यक्ति की आयु 18-65 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा प्लान की पात्रता शर्तें

प्रवेश आयु वयस्क18 वर्ष से 65 वर्ष
प्रवेश आयु बच्चे3 महीने से 23 साल तक बशर्ते कि कम से कम एक माता-पिता भी प्लान के तहत शामिल हों
सम एश्योर्ड न्यूनतमरु. 1 लाख
सम एश्योर्ड अधिकतमरु. 1 करोड़
प्लान की अवधि1 वर्ष

प्रीमियम आयु, कवरेज राशि और चयनित कवरेज लाभों पर निर्भर करता है

एक्सक्लूशन:

प्लान में हर आकस्मिकता शामिल नहीं है। कुछ अपवाद हैं जिन्हें प्लान के कवरेज के दायरे से बाहर रखा गया है। एक्सक्लूशन इस प्रकार हैं:

  • आत्महत्या और आत्मदाह चोट
  • एचआईवी या एड्स संक्रमण
  • किसी भी देश की पुलिस, अर्धसैनिक, सैन्य और सशस्त्र बलों की किसी भी शाखा में नॉमिनीयों को चाहे शांति या युद्ध में कवर के दायरे से बाहर रखा गया हो
  • दुर्घटनाएं जो शराब, ड्रग्स या किसी अन्य नशीले पदार्थ के प्रभाव में होती हैं
  • दंगों, गुंडागर्दी, अपराध या नागरिक अशांति में भाग लेने के कारण दुर्घटनाएँ
  • किसी भी विमान को सीखने या चलाने के दौरान दुर्घटनाएँ
  • युद्ध, गृहयुद्ध, आक्रमण, विद्रोह, क्रांति, विदेशी शत्रु के कार्य आदि के मामलों में दुर्घटनाएँ।
  • परमाणु क्षति
  • साहसिक या खतरनाक खेलों में भाग लेने के कारण दुर्घटनाएँ
  • बच्चे का जन्म और गर्भावस्था संबंधी जटिलताएं
  • जान-बूझकर किसी अवैध कार्य में भाग लेने या किसी उल्लंघन या कानून के उल्लंघन के प्रयास या गिरफ्तारी के प्रतिरोध के कारण हुई दुर्घटनाएँ

प्रीमियम की नमूना दर:

संबंधित सम एश्योर्ड के लिए प्रीमियम की निम्नलिखित दरें ली जाती हैं

सम एश्योर्डप्रीमियम
रु.2 लाखरु.100
4 लाखरु. 200
10 लाखरु. 500
रु.20 लाखरु.1000

2. एसबीआई इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंटल इंश्योरेंस (SBI Individual Personal Accident Insurance Plan)

एक इंडिविजुअल पर्सनल एक्सीडेंट प्लान किसी भी दुर्घटना की स्थिति में किसी व्यक्ति की मृत्यु, विकलांगता और आय की हानि को कवर करता है।

इंश्योरेंस प्लान की विशेषताएं इस प्रकार हैं:

  • पॉलिसी आकस्मिक मृत्यु को कवर करती है और ऐसी आकस्मिकताओं में एकमुश्त लाभ का भुगतान करती है
  • पॉलिसी एसबीआई बैंक या उसके किसी सहयोगी बैंक के साथ सेविंग अकाउंट या करंट अकाउंट रखने वाले व्यक्तियों द्वारा ली जा सकती है
  • पॉलिसी द्वारा दिया जाने वाला कवरेज इष्टतम है और प्रति बीमित सदस्य 20 लाख रुपये तक जा सकता है
  • पॉलिसी के लिए प्रीमियम बेहद कम है और इसे आसानी से वहन किया जा सकता है
  • प्लान में दुर्घटना के कारण बीमित व्यक्ति की मृत्यु, दुर्घटना के कारण होने वाली विकलांगता और दुर्घटना के कारण आय की हानि जो बीमित व्यक्ति के स्वास्थ्य को प्रभावित करती है, शामिल है।
  • प्लान के साथ अतिरिक्त ऐड-ऑन कवर उपलब्ध हैं जिसमें अस्पताल में भर्ती भत्ता और एम्बुलेंस शुल्क शामिल हैं
  • स्थायी कुल विकलांगता (Permanent Total Disability) के मामले में, भुगतान किए गए लाभ में ऐड भी शामिल है
  • शिक्षा लाभ (Education Benefit) और अनुकूलन भत्ता (Adaptation Allowance) जैसी सुविधाओं पर ग्राहक को कोई अतिरिक्त लागत नहीं
  • क्युमुलेटिव बोनस की सुविधा भी उपलब्ध है जिसका लाभ बीमित व्यक्ति अधिक लाभ लेने के लिए उठा सकता है
  • यह पॉलिसी अकेले या उसके पूरे परिवार के लिए ली जा सकती है, इस मामले में परिवार द्वारा प्राप्त लाभ हमेशा उस व्यक्ति द्वारा प्राप्त लाभ से कम होना चाहिए।
  • दुर्घटना में मृत्यु ग्राहक को दिया गया एक अनिवार्य कवर है और अन्य कवर जैसे पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी, पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी और टेम्पररी टोटल डिसेबिलिटी कवर ग्राहक द्वारा अपनी स्वैच्छिक पसंद के अनुसार प्राप्त किया जा सकता है।

प्लान को निम्नलिखित में से किसी भी संयोजन में लिया जा सकता है:

  1. एक्सीडेंटल डेथ
  2. एक्सीडेंटल डेथ + पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी
  3. एक्सीडेंटल डेथ + पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी + पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी
  4. एक्सीडेंटल डेथ + पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी + पर्मनेंट पार्शल डिसेबिलिटी + टेम्पररी टोटल डिसेबिलिटी

चार्ज किया गया प्रीमियम उपरोक्त सूची के अनुसार चुने गए कवर पर निर्भर करेगा

Permanent Total Disability लाभ ग्राहक को बिना किसी अतिरिक्त लागत के Education Benefit और Adaptation Allowance के ऑप्‍शन भी प्रदान करता है।

Education Benefit ऑप्‍शन के तहत, बीमाधारक का बच्चा और पति या पत्नी प्रत्येक बच्चे या पति या पत्नी के लिए नामांकन के प्रमाण पर अधिकतम 2 व्यक्तियों के लिए 50, 000 रुपये या बेसिक सम एश्योर्ड का 1%, जो भी कम हो, प्राप्त करने के हकदार होंगे। सरकार द्वारा अनुमोदित शिक्षा सुविधा जब बीमित व्यक्ति दुर्घटना के कारण पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी से ग्रस्त हो जाता है

Adaptation Allowance ऑप्‍शन के तहत, कंपनी शारीरिक अक्षमता से निपटने के लिए घर या वाहन को मॉडिफाई करने के लिए बेसिक सम एश्योर्ड का 1% या रु. 25, 000 जो भी कम हो, का भुगतान करती है।

पॉलिसी के तहत अतिरिक्त ऐड-ऑन कवर:

पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी दो ऐड-ऑन कवर प्रदान करती है जिसे बीमित व्यक्ति अतिरिक्त प्रीमियम का भुगतान करके चुन सकता है। कवर नीचे चर्चा कर रहे हैं:

  1. अस्पताल में भर्ती भत्ता (Hospital Confinement Allowance) – यदि बीमित व्यक्ति को भारत में किसी दुर्घटना के कारण चोट लगती है, जिसके लिए वह अस्पताल में भर्ती है, तो कंपनी पूरी अवधि के लिए अधिकतम 15 दिनों तक व्यक्ति द्वारा चुने गए योजना विकल्प के अनुसार 1000 रुपये / 2000 रुपये / 3000 रुपये के पॉलिसी के दैनिक भत्ते का भुगतान करती है।
  2. एयर एम्बुलेंस सहित एम्बुलेंस शुल्क – दुर्घटना के स्थान से या अस्पताल से बीमाधारक के निवास स्थान तक अस्पताल ले जाने के लिए बीमित व्यक्ति द्वारा एयर एम्बुलेंस सहित एम्बुलेंस की सेवाओं का लाभ उठाने के मामले में (केवल दुर्घटना के मामले में) मृत्यु या पर्मनेंट टोटल डिसेबिलिटी) या एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल में, ऐसी एम्बुलेंस सेवाओं का शुल्क बीमाकर्ता द्वारा वहन किया जाएगा। एंबुलेंस कवरेज केवल तभी उपलब्ध है जब दुर्घटनात्मक मृत्यु सम एश्योर्ड 5 लाख रुपये और उससे अधिक है और स्वीकार्य शुल्क की राशि दुर्घटना मृत्यु सम एश्योर्ड का 10% होगी, जो अधिकतम 1 लाख रुपये प्रति पॉलिसी अवधि के अधीन होगी।

यह भी पढ़े: इन्शुरन्स राइडर्स का मतलब क्या हैं? प्रकार, फायदे

पात्रता मापदंड:

बीमा प्लान का लाभ उठाने के लिए पात्रता मानदंड के रूप में निम्नलिखित बातों का ध्यान रखना आवश्यक है:

  • प्लान का लाभ सैलारिड, सेल्फ-एम्प्लॉयड और व्यवसायी वर्ग के व्यक्ति उठा सकते हैं
  • प्रवेश के समय न्यूनतम आयु, यानी पॉलिसी खरीदने के समय 18 वर्ष है और अधिकतम आयु जिस तक कवरेज ली जा सकती है, वह 65 वर्ष है।
  • 3 महीने और उससे अधिक आयु के नाबालिग बच्चों को आश्रितों के रूप में कवर किया जा सकता है यदि माता-पिता में से कोई एक प्लान द्वारा कवर किया गया हो। आश्रित बच्चों को कवर करने की अधिकतम आयु 23 वर्ष है।
  • फैमिली फ्लोटर प्लान के रूप में परिवार के लिए प्लान का लाभ उठाया जा सकता है। परिवार में स्वयं, जीवनसाथी, आश्रित बच्चे, आश्रित माता-पिता और आश्रित सास-ससुर शामिल हो सकते हैं।
  • प्लान के तहत उपलब्ध कवरेज की न्यूनतम और अधिकतम राशि 1 लाख रुपये और 10 लाख रुपये है।
  • दुर्घटना मृत्यु लाभ और कुल स्थायी विकलांगता लाभ के लिए प्राप्त की जा सकने वाली सम एश्योर्ड सकल मासिक आय का अधिकतम 120 गुना या लाभकारी रोजगार या व्यवसाय से सकल वार्षिक आय का 10 गुना है।
  • फैमिली फ्लोटर ऑप्‍शन के तहत आश्रित बच्चों, आश्रित माता-पिता, आश्रित सास-ससुर और गैर-कामकाजी जीवनसाथी के लिए उपलब्ध सम एश्योर्ड प्राथमिक सम एश्योर्ड के 20% या रु. 10 लाख, जो भी कम हो, तक सीमित है।
  • Temporary Total Disability Benefit के तहत देय साप्ताहिक क्षतिपूर्ति लाभ दुर्घटना मृत्यु सम एश्योर्ड का 1% है जो अधिकतम 104 सप्ताह के लिए अधिकतम 10,000 रुपये प्रति सप्ताह है।
  • 25 लाख रुपये और उससे अधिक की आकस्मिक मृत्यु सम एश्योर्ड के लिए, सेल्फ-अटेस्टेड लेटेस्‍ट इनकम प्रूफ की एक कॉपी जो या तो लेटेस्‍ट 3 सैलरी स्लिप या फॉर्म 16 या आयकर रिटर्न हो सकती है, को कंपनी के पास पूरा भरा हुआ एप्लिकेशन फॉर्म के साथ जमा करने की आवश्यकता है।

एसबीआई पर्सनल एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी की पात्रता शर्तें

प्रवेश आयु18 वर्ष से 65 वर्ष
सम एश्योर्डरु. 2 लाख, रु. 4 लाख, रु. 10 लाख या रु. 20 लाख
प्लान की अवधि1 वर्ष
प्रीमियम
रु. 2 लाख सम एश्योर्ड के लिएरु. 100
रु. 4 लाख सम एश्योर्ड के लिएरु. 200
रु. 10 लाख सम एश्योर्ड के लिएरु. 500
रु. 20 लाख सम एश्योर्ड के लिएरु. 1000

एसबीआई पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान रद्द कैसे करें?

पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान 1 वर्ष की अवधि के लिए उपलब्ध है। ग्राहक, हालांकि, उक्त अवधि से पहले प्लान को रद्द कर सकता है जो कि प्रीमियम की आनुपातिक राशि पर अनुमत है।

नीचे दिया गया टेबल जोखिम की अवधि और संबंधित अवधि के लिए आवश्यक आनुपातिक प्रीमियम दर्शाती है:

जोखिम की अवधिवार्षिक प्रीमियम का आवश्यक प्रतिशत
1 महीने से कम0.25
1 माह से 3 माह से कम0.5
3 महीने से 6 महीने से कम0.75
6 महीने और अधिक100% से

कंपनी प्लान को रद्द भी कर सकती है यदि कंपनी द्वारा यह पाया जाता है कि ग्राहक की ओर से गलत बयानी, धोखाधड़ी या भौतिक तथ्यों का खुलासा नहीं किया गया है। ऐसा कैंसिलेशन कंपनी द्वारा प्लान कैंसिल करने से 15 दिन पहले ग्राहक को नोटिस देकर किया जाएगा।

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये में एक्सक्लूशन

प्लान में हर आकस्मिकता शामिल नहीं है। कुछ अपवाद हैं जिन्हें प्लान के कवरेज के दायरे से बाहर रखा गया है। एक्सक्लूशन इस प्रकार हैं:

  • आत्महत्या के कारण कोई भी दुर्घटना, आत्महत्या का प्रयास चाहे बीमित व्यक्ति स्वस्थ या विक्षिप्त था या जानबूझकर खुद को चोट पहुँचाना, मानसिक या तंत्रिका संबंधी विकार।
  • किसी भी देश की सेना या सशस्त्र बलों की किसी भी शाखा में, चाहे वह शांति या युद्ध में हो, रोजगार के कारण और उसके दौरान दुर्घटना।
  • नशीली दवाओं, शराब, या अन्य नशीले पदार्थों या मतिभ्रम के प्रभाव या दुरुपयोग के दौरान दुर्घटना जब तक कि वे एक चिकित्सक द्वारा उचित रूप से निर्धारित नहीं किए जाते हैं और नुस्खे के अनुसार लिए जाते हैं।
  • वास्तविक या प्रयास किए गए गुंडागर्दी, दंगा, अपराध, दुराचार, या नागरिक हंगामे में भाग लेने के कारण दुर्घटनाएँ
  • किसी मान्यता प्राप्त एयरलाइन या चार्टर विमान पर किराया देने वाले यात्री को छोड़कर हवाई यात्रा के दौरान दुर्घटना
  • किसी विमान या जहाज का संचालन या संचालन सीखते समय या किसी विमान या जहाज पर चालक दल के सदस्य के रूप में कार्य करते समय होने वाली दुर्घटना।
  • युद्ध, गृहयुद्ध, आक्रमण, विद्रोह, क्रांति, विदेशी शत्रु के कार्य, शत्रुता (चाहे युद्ध घोषित हो या नहीं), विद्रोह, विद्रोह, सैन्य शक्ति का उपयोग या सरकार या सैन्य शक्ति का हड़पने से उत्पन्न होने वाली कोई दुर्घटना/हानि
  • किसी भी परमाणु ईंधन या किसी परमाणु कचरे से या परमाणु ईंधन (परमाणु विखंडन की किसी भी आत्मनिर्भर प्रक्रिया सहित) या परमाणु हथियार सामग्री के दहन से परमाणु आयनीकरण विकिरण या रेडियोधर्मिता द्वारा संदूषण के कारण, योगदान, या उत्पन्न होने वाली कोई भी चोट परमाणु उपकरण या उस उपकरण का कोई हिस्सा
  • रोगजनक या जहरीली जैविक या रासायनिक सामग्री का फैलाव या अनुप्रयोग; रोगजनक या जहरीली जैविक या रासायनिक सामग्री, या जन्मजात विसंगतियों या उनसे उत्पन्न होने वाली किसी भी जटिलता या स्थिति की रिहाई
  • शीतकालीन खेलों में भागीदारी, स्काइडाइविंग/पैराशूटिंग, हैंड ग्लाइडिंग, बंजी जंपिंग, स्कूबा डाइविंग, बैलूनिंग, माउंटेन क्लाइंबिंग (जहां आमतौर पर रस्सियों या गाइड का उपयोग किया जाता है), स्कीइंग के सभी प्रकार (बर्फ या पानी तक सीमित नहीं), सवारी या ड्राइविंग मोटर चालित वाहन या साइकिल का उपयोग करते हुए दौड़ या रैलियों में, केविंग या पॉट-होलिंग, शिकार या घुड़सवारी गतिविधियाँ, स्किन डाइविंग या अन्य पानी के नीचे की गतिविधि, राफ्टिंग या कैनोइंग जिसमें सफेद पानी के रैपिड्स शामिल हैं, तटीय जल के बाहर नौकायन या नौका विहार, किसी भी पेशेवर खेल में भागीदारी, कोई भी शारीरिक संपर्क खेल या/और कोई अन्य खतरनाक या संभावित खतरनाक खेल जिसके लिए बीमाधारक ने कोई प्रशिक्षण प्राप्त नहीं किया है
  • प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से होने वाली कोई भी हानि, बच्चे के जन्म या गर्भावस्था से योगदान या वृद्धि या लंबे समय तक,
  • आपराधिक इरादे से कानून का उल्लंघन करने से कोई दुर्घटना।
  • प्रत्यक्ष या परोक्ष रूप से, पूर्ण या आंशिक रूप से संक्रमण (पायोजेनिक संक्रमण को छोड़कर जो एक आकस्मिक कट या घाव के माध्यम से होता है) या किसी अन्य प्रकार की बीमारी के कारण होने वाली हानि।

एसबीआई एक्सीडेंटल श्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये के लिए अप्‍लाई कैसे करें?

कंपनी कई चैनलों के माध्यम से पर्सनल एक्सीडेंटल आवेदन की पेशकश करती है जैसे:

  • किसी भी प्लान का लाभ उठाने के इच्छुक व्यक्ति कंपनी की हेल्पलाइन पर कॉल कर सकते हैं और ग्राहक सेवा प्रतिनिधि से बात कर सकते हैं।
  • वे कंपनी की वेबसाइट पर अपना नाम, मोबाइल नंबर और ईमेल आईडी प्रदान कर सकते हैं और कॉल बैक के लिए अनुरोध कर सकते हैं
  • ऑनलाइन व्यक्तिगत पर्सनल एक्सीडेंटल प्लान्स को कंपनी की वेबसाइट पर प्लान पेज पर उल्लिखित Buy Online टैब पर क्लिक करके आसानी से लागू किया जा सकता है।
  • ग्राहक किसी भी संबंधित प्रश्न के लिए कंपनी को अपनी ईमेल आईडी पर लिख सकते हैं जो [email protected][dot]in है।

यह भी पढ़े: एसबीआई लाइफ संपूर्ण सुरक्षा – आपके परिवार की भलाई के लिए

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये कैसे खरीदें?

How To Buy SBI Accidental Insurance Policy 1000 Rs in Hindi

SBI एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये ऑफ़लाइन मोड पर उपलब्ध हैं। आप निम्न में से किसी भी तरीके से पॉलिसी को ऑफलाइन खरीद सकते हैं –

1. कंपनी की शाखा में जाकर

आप कंपनी की उस शाखा में जा सकते हैं जो आपके घर या आपके कार्यालय के सबसे नजदीक है और कंपनी से एसबीआई दुर्घटना बीमा पॉलिसी के लिए आवेदन कर सकते हैं। आपको एक पॉलिसी प्रपोजल फॉर्म भरना होगा, सभी संबंधित विवरण प्रदान करने होंगे, कुछ संबंधित डयॉक्‍यूमेंट जमा करने होंगे और प्रीमियम का भुगतान करना होगा। एक बार प्रीमियम के साथ प्रस्ताव फॉर्म जमा करने के बाद, बीमा कंपनी पॉलिसी को अंडरराइट कर देगी। सफल हामीदारी के बाद, पॉलिसी जारी की जाएगी।

2. एसबीआई जनरल के एजेंट के माध्यम से

SBI जनरल इंश्योरेंस कंपनी के साथ कई एजेंट जुड़े हुए हैं जो SBI जनरल इंश्योरेंस प्लान बेचते हैं। इसलिए, आप कंपनी के किसी भी एजेंट को खोज सकते हैं और उससे संपर्क कर सकते हैं। SBI दुर्घटना बीमा पॉलिसी तब SBI एजेंट से खरीदी जा सकती है। आपको अपने विवरण के साथ एक प्रस्ताव फॉर्म भरना होगा और पॉलिसी के लिए आवेदन करने के लिए अपने डयॉक्‍यूमेंट उपलब्ध कराने होंगे। आवेदन के समय पॉलिसी प्रीमियम का भुगतान भी किया जाना चाहिए। एक बार पॉलिसी लागू हो जाने के बाद, कंपनी आवेदन को अंडरराइट करेगी और अगर सब कुछक्रम में पाया जाता है तो पॉलिसी जारी करेगी।

3. कंपनी की वेबसाइट के माध्यम से

हालांकि एसबीआई दुर्घटना बीमा पॉलिसी को ऑनलाइन नहीं खरीदा जा सकता है, लेकिन आप प्लान को ऑफलाइन खरीदने के लिए कंपनी की सहायता के लिए ऑनलाइन अनुरोध कर सकते हैं। कंपनी से कॉल बैक की व्यवस्था करने के लिए बस https://www.sbigeneral.in/portal/personal-acccident-insurance/individual-pa-insurance पर जाएं। अपने व्यक्तिगत विवरण बताते हुए ऑनलाइन कॉलबैक फॉर्म भरें। तब कंपनी के अधिकारी आपसे संपर्क करेंगे और एसबीआई दुर्घटना बीमा पॉलिसी को आसानी से खरीदने में आपकी मदद करेंगे।

ग्रुप पर्सनल एक्सीडेंटल पॉलिसी के लिए, हालांकि, आपको अपने एसबीआई बैंक अकाउंट के माध्यम से पॉलिसी के लिए अप्‍लाई करना होगा।

एसबीआई दुर्घटना बीमा प्लान खरीदने के लिए आवश्यक डयॉक्‍यूमेंट

SBI दुर्घटना बीमा खरीदने के लिए निम्नलिखित डयॉक्‍यूमेंट जमा करने होंगे –

  • पहचान प्रमाण
  • आयु प्रमाण
  • पते का सबूत
  • आय प्रमाण
  • फोटो
  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड

एसबीआई दुर्घटना बीमा पॉलिसियों के तहत क्‍लेम कैसे करें?

किसी भी आकस्मिक आकस्मिकता के मामले में, जब आप पॉलिसी के तहत किसी क्‍लेम का सामना करते हैं, तो आप अपने क्‍लेम का सेटलमेंट आसानी से कर सकते हैं। यहां क्लेम सेटलमेंट पॉलिसी दी गई है जिसका आपको अपने क्लेम के सेटलमेंट के लिए पालन करना चाहिए –

अपने क्‍लेम के बारे में एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी को तुरंत सूचित करें। कंपनी को सूचित करने के लिए, आपको कंपनी के टोल-फ्री नंबर 1800 22 1111 पर कॉल करना होगा या 561612 पर ‘CLAIM’ लिखकर एक एसएमएस भेजना होगा। आपके क्‍लेम के बारे में कंपनी को डराने पर, दावा पंजीकृत हो जाएगा और आपको एक क्‍लेम रेफरेस नंबर मिल जाएगा।

कंपनी की क्‍लेम टीम आपको आपके क्‍लेम के प्रोसेसिंग के लिए आवश्यक डयॉक्‍यूमेंटस् के बारे में भी सूचित करेगी। आपको डयॉक्‍यूमेंटस् की व्यवस्था करनी चाहिए ताकि क्‍लेम पर जल्द से जल्द कार्रवाई की जा सके

कंपनी का क्‍लेम प्रबंधक या कार्यकारी, आपके क्‍लेम के रजिस्‍ट्रेशन के 24 घंटे के भीतर आपसे संपर्क करेगा। आपको अपने क्‍लेम से संबंधित डयॉक्‍यूमेंट क्लेम मैनेजर को जमा करने चाहिए और डयॉक्‍यूमेंटस् को मूल डयॉक्‍यूमेंटस् के साथ सत्यापित करना चाहिए

जब डयॉक्‍यूमेंट जमा किए जाते हैं, तो एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी आपके क्‍लेम पर कार्रवाई करेगी। क्‍लेम से संबंधित सभी प्रासंगिक डयॉक्‍यूमेंटस् को जमा करने के 30 दिनों के भीतर क्‍लेम का सेटलमेंट किया जाएगा

यह भी पढ़े: SBI लाइफ स्मार्ट एलीट प्लान – समीक्षा, विवरण, लाभ

क्‍लेम के लिए आवश्यक डयॉक्‍यूमेंट

क्‍लेम को संसाधित करने के लिए, आपको निम्नलिखित डयॉक्‍यूमेंट जमा करने होंगे –

  • क्‍लेम फॉर्म
  • पॉलिसी कौन्‍ट्रेक्‍ट
  • पुलिस एफआईआर
  • पुलिस जांच रिपोर्ट
  • मौत के मामले में कोरोनर की रिपोर्ट
  • पंचनामा
  • बीमाधारक का पहचान प्रमाण
  • अस्पताल और चिकित्सा रिपोर्ट
  • विकलांगता क्‍लेम के लिए डॉक्टर की रिपोर्ट
  • विकलांगता प्रमाण पत्र
  • मृत्यु प्रमाणपत्र
  • एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी द्वारा आवश्यक कोई अन्य डयॉक्‍यूमेंट

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये – अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

FAQ on SBI Accidental Insurance Policy 1000 Rs in Hindi

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस प्रीमियम का भुगतान कैसे करें? भुगतान के कौन से तरीके उपलब्ध हैं?

एसबीआई जनरल इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड प्रीमियम भुगतान के 6 तरीके प्रदान करती है:
शाखा में नकद भुगतान
ऑनलाइन भुगतान
ऑनलाइन भुगतान मोड के लिए, पॉलिसीधारक भुगतान कर सकता है;
क्रेडिट कार्ड
डेबिट कार्ड
नेट बैंकिंग

मैं एसबीआई पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा के लिए पॉलिसी स्‍टेटस को कैसे चेक कर सकता हूं?

रजिस्‍टर्ड ऑनलाइन यूजर्स के लिए, अपने पॉलिसी विवरण के साथ वेबसाइट पर लॉग इन करें और स्‍टेटस को चेक करें।

एसबीआई सामान्य पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा के लिए पॉलिसी रिन्‍यूअल प्रोसेस क्या है?

आप अपनी पॉलिसी को रिन्‍यूअल करने के लिए वेबसाइट पर जा सकते हैं
स्‍टेप 1: ई-पोर्टल पर अपनी पॉलिसी विवरण के साथ लॉगिन करें
स्टेप 2: पॉलिसी और पेमेंट मोड चुनें (नेट बैंकिंग, डेबिट/क्रेडिट कार्ड)
स्टेप 3: अपने भुगतान की साइबर रसीद प्रिंट/सेव करें
वैकल्पिक रूप से, अपनी पॉलिसी को रिन्‍यूअल करने के लिए निकटतम शाखा में चेक/डेबिट के माध्यम से भुगतान करें।

एसबीआई सामान्य पर्सनल एक्सीडेंटल बीमा के क्‍लेम सेटलमेंट के लिए कंपनी की क्या प्रक्रिया है?

आपको कंपनी को टोल फ्री नंबर पर सूचित करने की आवश्यकता है या आप कंपनी की मेल आईडी पर आई-क्लेम भेज सकते हैं। डयॉक्‍यूमेंटेशन के सफल समापन पर, क्लेम का सेटलमेंट 30 दिनों के भीतर किया जाता है।

एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी 1000 रुपये रद्द करने की प्रक्रिया क्या है?

यदि वाहन देयता कवर है तो आप पॉलिसी को रद्द करने के लिए कह सकते हैं। पॉलिसी को रद्द करने के लिए, बस निकटतम शाखा में जाएँ।

क्या एसबीआई एक्सीडेंटल इंश्योरेंस पॉलिसी रिन्‍यूअल के समय किसी ग्रेस पीरियड की अनुमति देती है?

हां, बीमा कंपनी द्वारा रिन्‍यूअल तिथि के बाद 30 दिनों का ग्रेस पीरियड की अनुमति दी जाती है ताकि आप प्रीमियम का भुगतान कर सकें और अपनी पॉलिसी का रिन्‍यूअल कर सकें।

क्या पॉलिसी में कोई कटौती योग्य है?

यदि आपने कवरेज टेबल डी चुना है जिसमें टेम्पररी टोटल डिसेबिलिटी शामिल है, तो इस कवरेज पर कटौती योग्य होगी।

पॉलिसी में सम एश्योर्ड का निर्धारण कैसे किया जाता है?

सम एश्योर्ड आपकी आय के आधार पर निर्धारित की जाती है। यह मासिक सकल आय के 120 गुना या रोजगार या व्यवसाय से वार्षिक आय के 10 गुना तक सीमित है।

अन्य एसबीआई प्‍लान्‍स को जाने-

SBI Life RiNn Raksha पॉलिसी: समीक्षा, लाभ और विवरण

SBI लाइफ स्मार्ट मनी बैक गोल्ड: समीक्षा, विवरण, लाभ

SBI लाइफ स्मार्ट वेल्थ बिल्डर: समीक्षा, विवरण और लाभ

Group Personal Accident Insurance Policy SBI in Hindi – कवरेज, लाभ

5/5 - (28 votes)
शेयर करें:

Leave a Comment